dark_mode
  • Friday, 03 February 2023
  • Visits : 720648
बांस की उपयोगिता व उद्यमिता विकास पर एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित

बांस की उपयोगिता व उद्यमिता विकास पर एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित

रायगढ़। कृषि विज्ञान केन्द्र, रायगढ़ में पुनर्गठित राष्ट्रीय बांस मिशन अतंर्गत बांस की रोपण तकनीक एवं उद्यमिता विकास पर एक दिवसीय प्रशिक्षण 23 जनवरी को केन्द्र के प्रशिक्षण कक्ष में आायेजित किया गया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य बांस का क्षेत्र विस्तार, कृषकों को बांस की ब्यवसायिक खेती की ओर ले जाना, भूमिहीन लोगों को स्वरोजगार उपलब्ध कराना तथा बांस की विदेशी निर्भरता को कम करना एवं लघु व कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देना था। प्रशिक्षण कार्यक्रम में जिले के इस योजना से लाभान्वित विभिन्न विकास खण्ड तमनार, घरघोड़ा, खरसिया, रायगढ़ एवं पुसौर के लगभग 60-70 कृषक उपस्थित थे।

 

 

 

 


इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ.ए.के.सिंह, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र, रायगढ़, उद्यान विभाग से प्रतिनिधी हरीहर प्रसाद सिदार, वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी, वन विभाग से श्रीमती रजनी टोप्पो, वन अधिकारी, इंदिरा विहार, रायगढ़, एवं केन्द्र के प्रमुख डॉ. मनीषा चैधरी, रायगढ़ प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। मुख्य अतिथि द्वारा बांस के महत्व को बताते हुए व्यवसायिक रूप से अपनाने हेतु कृषकों को प्रेरित किया गया। इस प्रशिक्षण के नोडल अधिकारी डॉ.एन.सी.बंजारा वैज्ञानिक (उद्यानिकी) ने बांस की प्रवर्धन एवं रोपण तकनीक पर प्रशिक्षण दिया। डॉ.के.डी.द्वारा बांस के रख-रखाव एवं उसके संरक्षण पर प्रशिक्षण दिये।

 

 

 

 

डॉ.के.के.पैंकरा द्वारा बांस की जीवकोपार्जन में महत्व विषय पर प्रशिक्षण दिया गया। केन्द्र के कीट वैज्ञानिक डॉ.सविता आदित्या द्वारा बांस में लगने वाले कीट एवं रोग प्रबंधन पर कृषकों को विस्तृत जानकारी दी गई। प्रशिक्षण उपरांत कृषकों को श्री नीलकमल पटेल, प्रक्षेत्र प्रबंधक द्वारा केन्द्र में रोपित बांस की उन्नत किस्मों का प्रदर्शन का भ्रमण कराया गया। इस कार्यक्रम में विभिन विकास खण्ड़ों के ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी एवं कृषि विज्ञान केन्द्र समस्त अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहें।

comment / reply_from

Share on

related_post